PUNJAB WEATHER

किसान आंदोलन ट्रैक्टर परेड के नाम पर उपद्रव दिल्ली पुलिस ने बहुत संयम का परिचय दिया


kisandolan

किसान आंदोलन ट्रैक्टर परेड के नाम पर उपद्रव दिल्ली पुलिस ने बहुत संयम का परिचय दिया

दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर रैली के नाम पर जो हुआ उसकी आशंका थी जो अराजकता देखने को मिली उस से पूरा देश शर्मशार हो गया दिल्ली पुलिस ने जो सयंम का परिचय दिया उसकी उस की तारीफ की जा रही है अगर दिल्ली पुलिस सयंम न दिखाती तो मंजर कुछ और होता | अब कुछ किसान नेता अपने आप को  इस हिंसा से खुद को अलग करने की कोशिश कर रहे है यह सब इन्ही की जिद्द के कारण हुआ। 

72वें गणतंत्र दिवस के मौके पर एक ओर दिल्ली के राजपथ पर देश के जवान तिरंगे को हाथ में लेकर देश पर जीने मरने का संकल्प ले रहे थे, वहीं दिल्ली के दूसरे हिस्से में हमारी सबसे बड़ी राष्ट्रीय धरोहर और स्वतंत्र भारत गणतंत्र भारत के प्रतीकों में से एक लाल किले पर कुछ प्रदर्शनकारियों ने जो कुछ किया, उससे न केवल देश का अपमान हुआ बल्कि गणतंत्र का उत्सव मना रहे देश में मायूसी भी छा गई.

किसान आंदोलन के नाम पर कुछ अराजक तत्व लाल किले की प्राचीर पर चढ़ गए  और  ठीक उस जगह पर एक झंडा और किसान संगठनों के झंडे लगा दिए जहां, हर साल आजादी के पर्व पर पूरी शान से तिरंगा फहरता है.

देश को शर्मसार करने वाली इस करतूत पर हम आपको विस्तार से बताएं उससे पहले आपको दिखा देते हैं, ट्रैक्टर रैली की कुछ तस्वीरें जिसने शांतिपूर्ण आंदोलन के दावों और वादों की कलई खोल दी. पथराव, नारेबाजी तोड़फोड़, आगजनी और गुंडागर्दी का गवाह बनी दिल्ली. दिल्ली- मेरठ एक्सप्रेस वे हो, अक्षरधाम का इलाका हो, दिल्ली पुलिस मुख्यालय आईटीओ का इलाका हो, मुकरबा चौक हो, नांगलोई हो करनाल बाइपास हो टीकरी बार्डर हो फरीदाबाद हो या फिर मयूर विहार हर जगह किसान संगठनों के कुछ लोगों ने जो हंगामा काटा कि गणतंत्र के पर्व पर गणतंत्र को ही शर्मसार किया. हाथों में रंग-बिरंगे झंडों में बीच कुछ हाथों में तिरंगे ज़रूर दिखे लेकिन तिरंगे की आन-बान-शान को चोट पहुंचाने की भरसक कोशिश की.

सबसे पहले बात करें दिल्ली गाजियाबाद सीमा पर स्थित गाजीपुर बार्डर की. किसानों ने गणतंत्र दिवस की परेड खत्म होने के बाद ट्रैक्टर मार्च निकालने का वादा किया था लेकिन समय से पहले ही ट्रैक्टर मार्च शुरू कर दिया. गाजीपुर बार्डर से किसान बैरिकेड तोड़कर आगे बढ़ते गए और पुलिस ने जो रूट दिया उसे भी फॉलो नहीं किया.

गाजीपुर से निकले प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने पांडव नगर के पास रोकने की कोशिश की तो बैरीकोड तोडा और पुलिस पिकेट पर ट्रैक्टर चढ़ाने की कोशिश की. कुछ उपद्रवियों ने तलवार से पुलिसकर्मियों पर हमले की कोशिश की. इसके बाद पुलिस को धता बताकर ये प्रदर्शनकारी आगे बढ गए.

प्रदर्शनकारी जब अधरधाम मंदिर के पास से दिल्ली की ओर बढने की कोशिश कर रहे थे तो वहां भी पुलिस ने बैरीकेड लगाकर रोकने की कोशिश की लेकिन वो नहीं माने और आईटीओ की ओर बढे.

अराजक तत्वों ने आईटीओ पहुंचने के बाद लुटियन दिल्ली और इंडिया गेट की ओर बढ़ने की कोशिश पर पुलिस के साथ भिड़ंत हुई. पुलिस ने रोका तो इन लोगों ने जमकर बवाल काटा. प्रदर्शनकारियों ने जगह-जगह तोड़फोड़ की. ट्रैक्टरों को लेकर दुर्भावना के साथ सड़कों पर जमकर उधम मचाया.

एक वीडियो में आईटीओ के पास ही एक प्रदर्शनकारी ट्रैक्टर पुलिस पर चढ़ाने की कोशिश करता दिख रहा है. वीडियो में देखा जा सकता है कि कैसे पुलिस की ओर एक प्रदर्शनकारी तेज गति में ट्रैक्टर चलाकर आता है, मानो वो पुलिसवालों पर ही चढ़ा देना चाहता हो. प्रदर्शनकारियों ने  बैरीकेड के लिए लगाई गयी डीटीसी की बसों को ट्रैक्टरों से टक्कर मार मारकर हटा दिया और जमकर तोड फोड की.

भारी संख्या मे प्रदर्शनकारी ट्रैक्टर और अन्य गाडियां लेकर लाल किले के पास पहुंच गए . बवाल करते हुए बडी संख्या में प्रदर्शनकारी लाल किले में घुस गए. यहीं से आई देश को सबसे ज़्यादा दुःख पहुंचाने और परेशान करने वाली तस्वीर. सैकड़ों लोग प्राचीर तक पहुंच गए और यहां ठीक उस जगह पर कुछ झंडे लगा दिए जहां, हर साल 130 करोड़ भारतीयों की आशा-आकांक्षायों को नई उड़ान के साथ, भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के अमर बलिदानियों के स्वाभिमान की बुलंदी के साथ प्रधानमंत्री तिरंगा फहराते हैं. पुलिस उपद्रवियों और अराजक तत्वों को समझाने का प्रयास करती रही लेकिन सब-कुछ बेअसर, हालांकि बाद में पुलिसकर्मियों ने स्थिति को नियंत्रण में ले लिया.

सिंघू और टिकरी बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे कुछ समूह ट्रैक्टर रैली के समय से पहले ही पुलिस के अवरोधकों को तोड़कर दिल्ली में दाखिल हो गए. इसके बाद ये काफी समय तक मुकरबा चौके पर बैठे, लेकिन फिर उन्होंने वहां लगाए गए बैरिकेड और सीमेंट के अवरोधक तोड़ने की कोशिश की. इसके बाद पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे. कुछ समूह माने नहीं और पुलिस के अवरोधक तोड़ कर आउटर रिंग रोड की ओर बढ़ने लगे. पुलिस की गाड़ियों और DTC की बसों के शीशे तोड़ दिए गए.

कुछ यही हाल नांगलोई का था जब प्रदर्शनकारियो ने जमकर बवाल काटा. ऐसा लग रहा था कि ट्रैक्टर परेड अब हुड़दंग और भीड तंत्र में बदल गया है. पुलिस की बातों को न सुनते हुए और बैरीकेड तोडते हुए किसान अपने मर्जी के रुट पर बढने लगे. नांगलोई में प्रदर्शनकारियो  को रोकने के लिए पुलिस सड़क पर बैठ गई. इनमें महिला पुलिसकर्मी भी शामिल थीं.

करनाल बाईपास पर भी कुछ ऐसा ही नजारा था और प्रदर्शनकारियों ने बैरीकेड तोडकर हंगामा किया.

दिन भर चले हंगामे के चलते दिल्ली के तमाम इलाकों में कई मेट्रो स्टेशनों पर एंट्री और एगजिट रोकनी पड़ी. तनाव बढ़ता देख कुछ इलाके में इंटरनेट बंद कर दिया गया है देर शाम तर हंगामा चलता रहा और उसके बाद हालात सामान्य हुए. लेकिन शांतिपूर्व प्रदर्शन का दावा करने वाले किसान सगंठनों के दावे की कलई जिस तरह खुली वो ना तो देश के लिए ही सुखद रहीं और ना ही किसानों के लिए ही. सेना और पुलिस में अपने ही परिजनों के होने का दावा करने वाले उपद्रवियों ने अपने की संविधान और क़ानून की मर्यादा को तार-तार किया.


1/27/2021 10:54:57 AM kids programming
kisandolan
Source:

Jalandhar Gallery

Leave a comment