PUNJAB WEATHER

किसान आंदोलन के चलते पंचायत का फरमान हर घर से एक सदस्य जाना जरूरी नही तो दो हज़ार जुर्माना


panchorder

किसान आंदोलन के चलते पंचायत का फरमान हर घर से एक सदस्य जाना जरूरी नही तो दो हज़ार जुर्माना

किसान आंदोलन के चलते गांव की पंचायत किसान आंदोलन मे भीड़ जुटाने के लिए हर परिवार से एक सदस्य का जाना जरूरी अगर वह नही जाएगा तो उस पर दो हजार रुपए का जुर्माना देना होगा साथ हर परिवार को सौ रुपए प्रति एकड़ के हिसाब से खर्चा-पानी के लिए भी राशि देने का फरमान जारी कर रही है।

तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे आंदोलन को रद्द करवाने हेतु चल रहे आंदोलन मे एक नया मोड़ आ गया 26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड के दिन बड़ी संख्या मे अराजक तत्व लाल किले पर पहुंच गए और वहां पर जमकर तोड़फोड़ की. इसके बाद कई संगठनों ने आंदोलन से खुद को अलग कर लिया और बड़ी संख्या में किसान वापस घरों को चले गए. आंदोलन खत्म होता देख भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत भावुक हो रोने लगे उन्हे रोता देख कर  बड़ी संख्या में लोग वापस आने शुरू होगए  इसके साथ ही पंजाब की एक पंचायत ने अजीबो-गरीब फरमान सुनाया है। 

मोगा के गांव साफूवाला की ग्राम पंचायत ने एक अजीबो गरीब फैसला सुनाया गांव से हर परिवार का एक सदस्य किसान आंदोलन मे जायगा अगर वह नही जाएगा तो उसे दो हज़ार रुपये जुरमाना देना होगा इसके साथ सौ रुपये प्रति एकड़ के हिसाब से वहां खर्चे पानी के लिए लिया जाएगा अगर वहां किसी का नुकसान होगा उसकी भरपाई पूरा गांव करेगा। यह फरमान मोगा के गाव साफूवाला ने पढ़कर सुनाया

एक ऐसा ही फरमान बठिंडा में विर्क खुर्द ग्राम पंचायत ने किसान आंदोलन को लेकर एक बैठक की.करते हुए सुनाया गांव के हर परिवार से एक सदस्य नए कृषि कानूनों का विरोध मे दिल्ली कम से कम एक हफ्ते के लिए जाएगा अगर वह जाने से मना करता है तो उस पर 1500  रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा अगर उसने जुर्माने को नही भरा तो उसका सामूहिक रूप से बहिष्कार किया जाएगा.| 


2/3/2021 12:26:05 PM kids programming
panchorder
Source:

Jalandhar Gallery

Leave a comment