PUNJAB WEATHER

पंजाब के किसानों ने फसल के सीधे भुगतान के विरोध पर एफसीआई के दफ्तरों का घेराव किया


kisanprofci

पंजाब के किसानों ने फसल के सीधे भुगतान के विरोध पर  एफसीआई के दफ्तरों का घेराव किया

पटियाला के किसानों ने सोमवार को सरहिंद रोड जाम कर भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) के मुख्य दफ्तर का छह घंटों तक घेराव कर धरना दिया। इस मौके पर गेहूं खरीद की अदायगी को जमीन के रिकॉर्ड से जोड़ने के फरमान का विरोध किया गया।

किसान नेताओ का कहना है केंद्र ने एक और साजिश के तहत गेहूं की खरीद के लिए जमीन की फर्दों को जरूरी कर दिया है। जबकि हकीकत यह है कि पंजाब में 40 फीसदी ठेका खेती होती है और ठेका खेती करने वाले किसानों के पास जमीन का मालिकाना रिकॉर्ड नहीं है। दशकों से फसलों की खरीद के लिए चल रही प्रणाली में लाई जा रही गैरजरूरी शर्तें में उलझाकर दिल्ली मोर्चों की ताकत को कमजोर करने की साजिश रची जा रही है। किसान नेताओं ने एलान किया कि किसान दिल्ली मोर्चों को संभालेंगे और गेहूं की फसल पहले की तरह सरकारी मंडियों में बेचेंगे। 

‘एमएसपी से कम खरीद करने वालों पर हो कार्रवाई’

किसान संगठनों ने फिरोजपुर शहर मलवाल रोड स्थित एफसीआई दफ्तर के सामने धरना देकर घेराव किया। सुबह 10 बजे से लेकर दोपहर तीन बजे तक धरना चला। इस मौके पर किसानों ने केंद्र सरकार और कारपोरेट घरानों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और कहा कि एमएसपी से कम कीमत पर फसल खरीदने वालों पर कार्रवाई की जाए।

किसान गुरविंदर सिंह व सतनाम सिंह ने कहा कि सरकार गेहूं खरीद के लिए जमीन की जमाबंदी जमा करने के फैसले को वापस ले। किसानों के सीधे खाते में भुगतान वाले फैसले को वापस किया जाए, इससे किसानों को कई उलझनों से गुजरना पड़ेगा, पुराने तरीके से ही किसानों को भुगतान किया जाए। तय एमएसपी पर फसलों की खरीद की जाए, इससे कम में खरीदने वाले के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाए।

 

 


4/7/2021 11:19:34 AM kids programming
kisanprofci
Source:

Jalandhar Gallery

Leave a comment