भारतीय रेलवे ने अदालतों के बोझ को कम करने के लिए  रेलवे अधिनियम पर समीक्षा शुरू कर दी है रेल मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक बिना टिकट ट्रेन में  सफर  करने पर ,ट्रेन के पायदान पर ,अवैध गतिविधि कानून के मुताबिक जुर्माना लगाया जाएगा आपराधिक लोगो की जांच और मुकदमा चलाने का  काम 

जी आर पी (गवर्नमेंट रेलवे पुलिस) है वही ट्रेनों और रेलवे स्टेशन की  सुरक्षा  और यात्रिओ की और उन के समान जिम्मेदारी जी आर पी के साथ आर पी एफ 

की भी है आर पी एफ रेलवे की संपत्ति को नुकसान करने वालों को गिरफ्तार करके मुकदमा चलाती है| 

कुछ ऐसे अपराध जैसे आरक्षित कोच मे सफ़र करना ,बिना कारण अलार्म चेन को खींच कर  ट्रेन को रोकना इन पर  रेलवे अधिनियम पर जुर्माना और सज़ा का प्रवधान था अब रेलवे अधिनियमो की समीक्षा करेगी और जुर्माना और सज़ा के दो प्रावधानो मे से सज़ा को हटाएगी  |