• कोरोना महामारी के संकट के समय में मददगार के तौर पर भारतीय रेलवे अहम भूमिका निभा रही है। भारतीय रेलवे महामारी से लड़ने में मदद करने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है।

     

    कोविड-19 के मरीज़ों के इलाज के लिए तैयार किए गए कोच का उपयोग भी शुरू हो गया है। भारतीय रेलवे ने दिल्ली, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और मध्य प्रदेश में कुल 960 कोविड केयर कोच तैनात किए हैं। जिनमें दिल्ली में 503, आंध्र प्रदेश में 20, तेलंगाना में 60, उत्तर प्रदेश में 372 और मध्य प्रदेश में 5 कोच तैनात किए गए हैं।

    उत्तर प्रदेश में वाराणसी डिविजन के मऊ जंक्शन में भर्ती हुए 59 संदिग्ध मरीजों में से 8 को स्वास्थ्य में सुधार के बाद छुट्टी भी दे दी गई है। मऊ जंकशन के अलावा उत्तर प्रदेश में 23 अलग-अलग स्थानों पर कुल 372 कोच तैनात किए गए हैं। राजधानी दिल्ली में 9 स्थानों पर कुल 503 कोच तैयार किए गए हैं।

    भारतीय रेलवे ने कोरोना मरीजों को क्वारनटीन करने के लिए अतिरिक्त इंफ्रास्ट्रक्चर के तौर पर कोच तैयार किए हैं। इन कोच में 6 मई को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी SOP के अनुसार डॉक्टर और पैरामेडिक्स स्टाफ की तैनाती राज्य सरकारें कर रही हैं। रेलवे इन आइसोलेशन कोच में तापमान को नियंत्रित रखने के लिए विभिन्न विकल्पों पर काम कर रहा है। कोविड-19 मरीजों की देखभाल में मदद करने के लिए रेलवे राज्य सरकारों को हर संभव सहायता भी कर रही है।

    महामारी से निपटने के लिए भारतीय रेलवे ने राज्यों को 5 हजार 231 कोविड केयर कोच मुहैया कराने का लक्ष्य रखा है।