ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंडली के कुछ दोष जीवन भर कष्‍ट देते हैं और पितृ दोष इनमें से प्रमुख है. पूर्वजों की नाराजगी के कारण लगने वाला पितृ दोष जीवन की सारी खुशियां छीन लेता है. पितृ पक्ष के पड़ने वाली अमावस्‍या या श्राद्ध का आखिरी दिन सर्व पितृ अमावस्‍या कहलाता है. अश्विन माह की इस अमावस्‍या को महालया या पितृ मोक्ष अमावस्‍या भी कहते हैं. आज 25 सितंबर, रविवार को पितृ पक्ष का आखिरी दिन यानी कि सर्व पितृ अमावस्‍या है. पूर्वजों का आशीर्वाद पाने के लिए आज कुछ खास उपाय जरूर कर लें.

महालया पर जरूर कर लें ये काम 

सर्व पितृ अमावस्‍या या महालया के दिन कुछ काम जरूर कर लें. जिन लोगों ने 15 दिन के पितृ पक्ष के दौरान पूर्वजों के लिए श्राद्ध, तर्पण और पिंड दान नहीं किया है, वे आज जरूर कर लें. साथ ही जिन पितरों की मृत्‍यु तिथि अमावस्‍या है, उनका भी श्राद्ध कर्म कर लें. ऐसा करने से पितरों को मोक्ष मिलता है. साथ ही पितृ दोष से मुक्ति मिलती है

ऐसे लगता है पितृ दोष 

यदि कुंडली में दूसरे, चौथे, पांचवें, सातवें, नौवें और दसवें भाव में सूर्य राहु या सूर्य शनि की युति बने तो पितृ दोष लगता है. वहीं सूर्य के तुला राशि में रहने पर या राहु या शनि के साथ युति होने पर पितृ दोष का प्रभाव काफी बढ़ जाता है. साथ ही लग्नेश का छठे, आठवें, बारहवें भाव में होने और लग्न में राहु के होने पर भी पितृ दोष लगता है. ये स्थितियां धन हानि, तरक्‍की में रुकावट, गरीबी, संतान हीनता, विवाह न होना, परिवार में कलह जैसे कई कष्‍ट देती हैं.

पितृ दोष दूर करने के लिए अमावस्‍या पर करें उपाय

पितृ दोष से मुक्ति के लिए आज अमावस्या के दिन पितर संबंधित कार्य श्राद्ध, तर्पण, पिंड दान आदि करें. साथ ही पूर्वजों से अपनी गलतियों के लिए क्षमा मांगे. इसके अलावा आज गाय को भोजन अवश्य दें. गाय को सात्विक भोजन ही दें. यानी कि लहसुन-प्‍याज आदि न दें. ऐसा करने से पितृ दोष दूर होगा और जीवन में सुख-समृद्धि आएगी.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.