मीडिया द्वारा पूछे जाने पर दंतानी ने कहा कि उन्होंने 13 सितंबर को अहमदाबाद के टाउन हॉल में आम आदमी पार्टी (आप) की बैठक के दौरान केजरीवाल को अपने घर आमंत्रित किया था, क्योंकि उन्हें एक ऑटोरिक्शा यूनियन के नेताओं ने ऐसा करने के लिए कहा था। 

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को दो सप्ताह पहले अहमदाबाद में अपने घर पर बहुप्रचारित रात्रिभोज के लिए आमंत्रित करने वाले ऑटोरिक्शा चालक विक्रम दंतानी ने यू-टर्न लेते हुए शुक्रवार को कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बहुत बड़े प्रशंसक और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कट्टर समर्थक हैं। दंतानी को शुक्रवार को शहर के थलतेज इलाके में मोदी की एक सार्वजनिक रैली में भगवे रंग का पटका रखे और टोपी पहने देखा गया। मोदी दो-दिवसीय गुजरात यात्रा पर हैं।

मीडिया द्वारा पूछे जाने पर दंतानी ने कहा कि उन्होंने 13 सितंबर को अहमदाबाद के टाउन हॉल में आम आदमी पार्टी (आप) की बैठक के दौरान केजरीवाल को अपने घर आमंत्रित किया था, क्योंकि उन्हें एक ऑटोरिक्शा यूनियन के नेताओं ने ऐसा करने के लिए कहा था। दंतानी तब सुर्खियों में आए जब आप के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल बैठक में रात्रिभोज का निमंत्रण स्वीकार करने के बाद ऑटोरिक्शा में बैठकर दंतानी के घर गये थे। दंतानी ने कहा, ‘‘मैंने केजरीवाल को रात के खाने के लिए आमंत्रित किया था,क्योंकि मुझे हमारे यूनियन के नेताओं द्वारा ऐसा करने के लिए कहा गया था।

जैसे ही मैंने उन्हें अपने घर पर भोजन की मेजबानी करने की पेशकश की, केजरीवाल ने इसे स्वीकार कर लिया। मुझे नहीं पता था कि यह इतना बड़ा मुद्दा बन जाएगा, जबकि मैं पार्टी (आप) से बिल्कुल भी जुड़ा नहीं हूं। मैं उस घटना के बाद आप के किसी नेता के संपर्क में नहीं हूं।’’ ऑटोरिक्शा चालक ने आगे कहा कि वह प्रधानमंत्री के बहुत बड़े प्रशंसक हैं और उन्होंने हमेशा भाजपा को वोट दिया है। दंतानी ने कहा, ‘‘मैं यहां (रैली के लिए) आया हूं, क्योंकि मैं मोदीजी का बहुत बड़ा प्रशंसक हूं।

मैं शुरू से ही भाजपा के साथ रहा हूं और मैंने हमेशा अपना वोट भाजपा को दिया है। मैं यह किसी दबाव में नहीं कह रहा हूं।’’ इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले गुजरात में आप के अभियान के तहत केजरीवाल ने 13 सितंबर को यहां ऑटोरिक्शा चालकों के साथ टाउन हॉल में बैठक की थी। बातचीत के दौरान, दंतानी ने केजरीवाल से अपने घर पर रात का खाना खाने का आग्रह किया था और इस प्रस्ताव को दिल्ली के मुख्यमंत्री ने तुरंत स्वीकार कर लिया। था।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.