संसद का शीतकालीन सत्र चल रहा है। इस दौरान संसद में राजनीतिक वार पलटवार का दौर भी देखने को मिल रहा है। इन सबके बीच शिरोमणी अकाली दल के सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान को लेकर जबरदस्त तरीके से निशाना साधा है। हरसिमरत कौर बादल ने अपने बयान में कहा कि कुछ समय पहले तक पंजाब के मुख्यमंत्री इसी सदन में बैठा करते थे। उन्होंने इसके बाद साफ तौर पर कहा कि दिन के 11:00 बजे वह कौन सा नशा करके आते थे कि हर कोई अपनी सीट बदलने की बात करता था। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि जो व्यक्ति संसद में नशे में आता था, वही आज हमारा सूबा चला रहा है। जब हरसिमरत कौर बादल भगवंत मान पर हमले कर रही थीं, उस दौरान सदन में गृह मंत्री अमित शाह भी मौजूद रहे। उनके चेहरे पर मुस्कुराहट देखी गई।

इसके साथ ही हरसिमरत कौर बादल ने कहा कि संसद की सुरक्षा के लिए हमारे सुरक्षाबलों ने शहादत दी है। लेकिन हमारे सीएम जब सांसद बनकर यहां आए थे तो उन्होंने बाहर से अंदर तक की वीडियोग्राफी कर दी थी ताकि हमारे दुश्मनों को पता चल सके कि हम अंदर से बाहर कैसे आते जाते हैं। इसको लेकर सभापति ने उस समय एक कमेटी भी बनाई थी। उन्हें पूरे सत्र से बाहर भी रखा गया था। उन्होंने सवाल किया कि पता नहीं 11:00 क्या खा-पी के आते थे कि आसपास के सारे बोलते थे कि हमारी सीट बदल दो। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के ऊपर भी दो सुपर मुख्यमंत्री बैठा दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री का नशे से यह हिसाब हो गया तो स्टेट का क्या हो रहा होगा, यह आप समझ सकते हैं।

हरसिमरत कौर बादल ने कहा कि पिछले 10 महीने में पंजाब में नशे का यह हाल हो गया है कि सड़कों पर लिखा रहता है डोंट ड्रिंक, डोंट ड्राइव लेकिन हमारे मुख्यमंत्री तो ड्रिंक करके स्टेट को ड्राइव कर रहे हैं। अरविंद केजरीवाल कहते हैं कि भगवंत मान माता की कसम खाई थी कि वह आप शराब नहीं पीते और कहते हैं कि भगवंत मान ने बहुत बड़ी कुर्बानी की है। इतनी बड़ी कुर्बानी कोई नहीं कर सकता। उन्होंने बार-बार कहा कि अगर मुख्यमंत्री ऐसे हैं तो आप अंदाजा लगा सकते हैं कि राज्य का क्या हाल होगा। हमारे मुख्यमंत्री तो शराब पी का राज्य चला रहे हैं। आपको बता दें कि 2022 पंजाब में हुए विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी ने जबरदस्त जीत हासिल की थी और भगवान राज्य के मुख्यमंत्री बने थे।

 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.