प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को राष्ट्रीय राजधानी में मुख्य सचिवों के राष्ट्रीय सम्मेलन की अध्यक्षता की। यह कार्यक्रम राज्यों के साथ साझेदारी में तीव्र और निरंतर आर्थिक विकास को हासिल करने पर केंद्रित रहेगा। पहली बार ऐसा सम्मेलन जून 2022 में हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में आयोजित किया गया था और इस बार इसका आयोजन नई दिल्ली में हुआ है।
क्या है राष्ट्रीय सम्मेलन का उद्देश्य ?
प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय सम्मेलन का उद्देश्य बताते हुए कहा कि केंद्र और राज्यों के साथ मिलकर काम करने वाले विभागों के माध्यम से सहकारी संघवाद नए भारत के विकास और प्रगति के लिए एक आवश्यक स्तंभ है। इसी को ध्यान में रखते हुए इस सम्मेलन की परिकल्पना की गई।
200 से अधिक नौकरशाहों ने लिया हिस्सा
प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) ने बताया कि मुख्य सचिवों का राष्ट्रीय सम्मेलन 5 जनवरी को आयोजित किया गया जो 7 जनवरी को समाप्त होगा। इस सम्मेलन में 200 से अधिक नौकरशाहों ने हिस्सा लिया। जिसमें केंद्र सरकार के प्रतिनिधि, मुख्य सचिव और राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल हैं।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.