PUNJAB WEATHER

स्वास्थ्य जीवन के लिए डाइट प्लान ठीक तो सब ठीक: डॉ विनीत शर्मा

kids programming
Dr Vineet Sharma Jalandhar

स्वास्थ्य जीवन के लिए डाइट प्लान ठीक तो सब ठीक: डॉ विनीत शर्मा

पाचन तंन्त्र ठीक तो सब ठीक 

भोजन में सब्जी व सलाद को अधिक महत्व दें। मौसमी फलों का सेवन करें। तली-भुनी चीजों की जगह पर सादा भोजन करें। ऐसे आहार से पेट नहीं फूलेगा। अपच या कब्ज नहीं होगा। शरीर हल्का लगेगा। सोडियम की अधिकता के कारण पेट निकलता है। यह तोंद भी सभी बीमारियों का भंडार है। सोडियम हमें नमक के माध्यम से ज्यादा मिलता हैं, अतएव कम नमक वाला भोजन करें। भोजन में अतिरिक्त नमक न डालें।

पाचन तन्त्र हमारे शरीर के भीतर स्थित महत्वपूर्ण अंग है। यह हमारे भोजन को पचाता है एवं उसमें से मिले पौष्टिक तत्वों को शरीर को प्रदान करता है। यही सार तत्व हमारे स्वर्ग के काम आता है इसीलिए पाचन तन्त्र का सदैव सही रहना आवश्यक होता है। इसकी कार्य क्षमता की तीव्रता या धीमी गति की स्थिति में श्रीरंगो पर विपरीत प्रभाव पड़ता है उम्र के साथ पाचन तंत्र कार्यप्रणाली में व्यवधान के चलते उसकी पाचन क्षमता धीमी होने लगती है। 40 वर्ष की आयु के बाद स्त्री पुरुष दोनों की पाचन तंत्र कार्यप्रणाली के धीमी होने के कारण भोजन ठीक प्रकार से पचता नहीं और शरीर में अतिरिक्त्त चर्बी चढ़ने लगती है। इस आयु का व्यक्ति अपनी व्यस्त जीवनशैली एवं उम्र के कारण व्यायाम के लिए समय नहीं निकाल पाता है। अतएव ऐसे समय नहीं निकाल पाता है। अतएव ऐसे समय में खानपान में उपयुक्त बदलाव लाकर पाचन तंत्र को सही रख स्वस्थ व सुडौल रहा जा सकता है।

भोजन रेशेदार हो :- पालिश चावल एवं मैदे की चीजों के स्थान पर मोटे व साबुत अनाज एवं चोकरदार आटे का उपयोग करें। भोजन में सब्जी व सलाद को अधिक महत्व दें। तली-भुनी चीजों की जगह पर सादा भोजन करें। ऐसे आहार से पेट नही फूलेगा। अपच या कब्ज नहीं होगा। शरीर हलका लगेगा। सोडियम की अधिकता के कारण पेट निकलता है। यह तोंद भी सभी बीमारियों का भंडार है। सोडियम हमें नमक के माध्यम से ज्यादा मिलता है, अतएव कम नमक वाला भोजन करें। भोजन में अतिरक्त नमक न डालें। नमक की अधिकता वाली वाली वस्तुएँ अचार पापड़, जंक फ़ूड, डिब्बाबन्द, बोतलबन्द वस्तुएँ उपयोग न करें। सभी खाघ पदर्थों में नमक प्रकृतिक रूप से होता है जो हमें दैनिक जरूरत के नमक की पूर्ति के लिए अपने आप पर्याप्त होता है।

शक्कर से प्राप्त असली मिठास एवं कोल्डड्रिंक्स की नकली मिठास दोनों कैलोरी के भंडार हैं। ये स्वस्थ्यघाती हैं। शक्कर पाचन बिगाड़ता है और हड्डियों को निर्बल बनाता है, जबकि नकली मिठास मुसीबत लाती है, अतएव इनसे बनी चीजों, कोल्ड्रिंक्स, मिठाई, टॉफी, चॉकलेट, जैम, जैली आदि से दूर रहें। असली मिठास शरीर के भीतर पहुँचकर बड़ी आंत में उपस्थित बैक्टेरिया को बढ़ाती है, जिससे पाचन गड़बड़ाता कब्ज एवं डायरिया होता है। मीठे से वजन व मोटापा भी बढ़ाता है। अतएव मेवों एवं फलों से प्राप्त मीठे का उपयोग करें।

पोटैशियम वाली चीजें लें :- सोडियम की भांति अल्प मात्रा में पोटेशियम भी जरूरी है। यह पपीता, संतरा, केला, आलू, सेब आदि से मिलता है। यह शरीर से विषाक्त तत्त्व निकालता है। ह्रदय व रक्तचाप सही रखता है। यह पेट नहीं निकालने देता है।

आजकल, कैंडी सोडा एवं गम जैसी पाशचात्य चीजों का सेवन बढ़ गया है।

इन्हें चूसने, चबाने, खाने से पाचन बिगड़ता है। हार्ड कैंडी को चूसने, च्यूईंगम को चबाने, स्ट्रा के माध्यम से पेय पीने, जल्दी-जल्दी खाने एवं तेजी के साथ पानी पीने से पेट के अन्दर बाहरी हवा पहुँच जाती है। यही वायु पाचन तंत्र के भीतर पहुँचकर पाचन को गड़बड़ाती है। कब्ज का कारण बनती है और पेट बाहर निकल आता है, अतएव पाशचात्य चीजों से दूर रहें। भोजन व पानी धीरे-धीरे ग्रहण करें।

हमें हर मौसम में शरीर की आवश्यकता के अनुसार बीच-बीच में पानी पीते रहना चाहिए। दैनिक 8 से 12 गिलास पानी धीरे-धीरे पियें। यह कब्ज दूर करता है, शरीर को सुडौल रखता है, पानी की अधिकता वाले सूप, फल एवं सब्जी जरूर खायें, परम्परागत पेय जूस पियें।

दूध के खमीरीकरण से बना दही शरीर के सभी कार्यों को सही रखता है। यह पाचन तंत्र को सही रखता है। पेट की गड़बड़ी दूर करता है। यह हड्डियों को मजबूत बनाता है। दूध, दही, चीज, पनीर, छाछ सभी सेहत के लिए लाभदायी है। इन्हें भी भोजन में शामिल करें।

भूख लगने पर ही सीमित मात्रा में ताजा, गर्म, सादा, सुपाच्य भोजन करें। अधिक समय तक भूखे न रहें। तेल, घी, नमक, शक्कर, तली भुनी एवं जंक फूड व अप्राकृतिक चीजें कम उपयोग करें। फल, सब्जी सलाद खायें। रायता, सूप, जूस व परम्परागत पेय पियें, श्रम व व्यायाम करें किन्तु पेट के लिए दवा उपयोग न करें। अनावश्यक दवाओं के सेवन न करें। तनाव, चिन्ता से मुक्त्त अपनों के बीच हंसी खुशी जीवन बितायें।


5/14/2020 12:05:00 PM kids programming
Dr Vineet Sharma Jalandhar
Source:

Leave a comment






Latest post