PUNJAB WEATHER

जानें उन वीर जवानों को जिन्होंने गलवन घाटी में दी थी शहादत, बीत गया एक साल


gallwan valley

जानें उन वीर जवानों को जिन्होंने गलवन घाटी में दी थी शहादत, बीत गया एक साल

भारत चीन सीमा पर हिंसक झड़प में शहादत देने वाले 20 जवानों के बलिदान को एक साल बीत गया। 45 सालों बाद 2020 में भारत-चीन की विवादित सीमा पर शहादत जैसी घटना हुई। पूर्वी लद्दाख की गलवन घाटी में पिछले साल 15-16 जून की दरम्यानी रात में दोनों देशों की सेना के बीच हिंसक झड़प हुई जिसमें भारतीय सेना के एक अधिकारी समेत 20 जवान शहीद हो गए थे।

शहीद हुए 20 वीरों के नाम एम-120 पोस्ट पर बनाए गए स्मारक पर अंकित है। देश के लिए शहादत देने वालों में 16 बिहार रेजिमेंट के अलावा 3 पंजाब, 3 मिडियम रेजिमेंट और 81 फील्ड रेजिमेंट के जवान भी शामिल थे।

देश के विभिन्न राज्यों से गलवन में डटे थे वीर जवान

- बिहार के सहरसा जिले के सत्तरकतैया ब्लॉक के आरण गांव निवासी कुंदन कुमार ने भी देश की खातिर बलिदान दे दिया। कुंदन दो बेटों के पिता थे।

- झारखंड पूर्वी सिंहभूम जिला के बांसदा निवासी गणेश हांसदा इस हिंसक झड़प में शहीद हो गए थे।

 
 

- 2015 में सेना में शामिल हुए जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में तैनात पश्चिम बंगाल के सिपाही राजेश ओरांग भी इस हिंसक झड़प में शहीद हो गए थे। वे पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिला के निवासी थे।

- 22 सालों से भारतीय सेना में सेवा देने वाले 40 वर्षीय तमिलनाडु के जवान पलनी भी इस झड़प में शहीद हो गए।

- छत्तीसगढ़ के कांकेर के आदिवासी समुदाय से आने वाले गणेश राम कुंजाम ने भी चीनी सेना का डटकर सामना किया। 2011 में सेना में भर्ती हुए कुंजाम की इस घटना से करीब एक माह पहले ही गलवन में तैनाती हुई थी।

 झारखंड के साहिबगंज जिला निवासी कुंदन ओझा बिहार रेजिमेंट में थे जो चीनी सेना से लोहा लेते हुए वीरगति को प्राप्त हुए।

- शहीदों में शामिल बिहार रेजिमेंट के कर्नल संतोष बाबू थे जो चीनी सीमा पर डेढ़ साल से तैनात थे।

- तेलंगाना के सूर्यापेट निवासी कर्नल संतोष बाबू 16-बिहार रेजिमेंट में थे।

शहीदों को सम्मान

गलवन घाटी में शहीद हुए चार सैनिकों- नायब सूबेदार नुदुराम सोरेन, हवलदार (गनर) के. पलानी, नायक दीपक सिंह और सिपाही गुरतेज सिंह को वीर चक्र से सम्मानित किया गया वहीं भारतीय सेना की तीन मीडियम रेजिमेंट के हवलदार तेजिंदर सिंह को भी वीर चक्र से नवाजा गया है। 


6/15/2021 10:20:29 AM kids programming
gallwan valley
Source: gallwan valley

Jalandhar Gallery

Leave a comment